Ouija Bhoot Story Hindi | ओइजा बोर्ड भूत स्टोरी: दुसरे दुनिया का दोस्त


Hindi-ouija-Board-Sacchi-Kahani-Dusre-Duniya-Ka-dost-story-in-hindi-Bhoot-story-hindi
Bhoot Story Ouija Board Ki: Dusri Duniya Ka dost

Ouija Board Bhoot Story Hindi: Dusre Duniya Ka dost
ओइजा बोर्ड भूत स्टोरी हिंदी: दुसरे दुनिया का दोस्त

मेरी कहानी भूत के शिकार हर दूसरे किशोर की तरह ही है, यह डरावना तो नही लेकिन दिलचस्प है। यह लगभग 5 साल पहले की बात है, मैं 17 साल का था। मैं और मेरे दोस्त भूतों, आत्माओं और ऐसी ही अन्य चीजों के बारे में चर्चा कर रहे थे। 21 वीं सदी के बच्चे होने के नाते, हममें से कोई भी वास्तव में इन सब चीजों में विश्वास नहीं करता था। 


अपने परिवारों द्वारा बताई गई कहानियों को एक दुसरे को सुनाया करते थे, फिर हमने अपने इन सब चीजों  के वास्तविकता के परीक्षण करने का फैसला किया। 

जैसे सारे बच्चे करते हैं, बस वैसे ही भूतों को बुलाने का सबसे सरल माध्यम ओइजा। हमने ओइजा खेलने की योजना बनाई, लेकिन हमारे पास ओरिजिनल ओइजा बोर्ड नहीं था, इसलिए हमने इसे पेपर पर बनाया और एक सिक्के को पॉइंटर के रूप में इस्तेमाल किया।


मुझे पता है कि कई लोग ओइजा को सही नहीं मानते और कुछ लोग तो इसे बुरा मानते हैं, लेकिन मेरे अनुभवों ने यह विश्वास दिलाया है कि यह थोड़ा खतरनाक है लेकिन बिल्कुल भी बुरा नहीं है। आपको इससे निकलने वाली ऊर्जा को संभालने में सक्षम होना चाहिए और इसे बुरे इरादे से यूज़ नहीं करना चाहिए। आत्माओं का सम्मान करें।


आगे की कहानी कुछ इस प्रकार से है। हमने ओइजा करना शुरू किया, लेकिन कुछ मिनटों के लिए कोई नतीजा नहीं निकला, आखिर में मेरे दोस्तों ने ऊबकर कॉफी पीने के लिए जाने का फैसला किये लेकिन अचानक फिर इसका पॉइंटर खुद ही चल पड़ा। आत्मा ने स्वयं का नाम 'चिराग' कहा। उसने हम सभी को अपने पिछले जीवन, मृत्यु और प्रेम के बारे में बताया। उन्होंने मृत्यु के बाद क्या होता है और उस ऊर्जा के बारे में भी बताया जो उन्हें हमसे जोड़ती है।


हमारी जिंदगी इस अदृश्य दोस्त के साथ दिलचस्प हो गई। हम उससे हर दिन घंटों संपर्क करने लगे। यह सिलसिला 7-8 महीने तक चलता रहा। हमें इसकी इतनी लत लग गई कि हमलोग सब कुछ छोड के दिनभर एक रूम में बंद यही करते रहते। चिराग की आत्मा ने भी कभी हमें कोई हरम नहीं किया बल्कि वो एक दोस्त के जैसा  या उससे भी ज्यादा हमारा ख्याल रखा। वह आत्मा अब हमारा साथी बन गया था।


हम तब 12वीं कक्षा में थे और इसके एग्जाम के रिजल्ट्स ही हमारा भविष्य तय करते हैं। चिराग को हमारी पढ़ाई की चिंता रहती थी क्योंकि हमने पढाई करना लगभग बंद कर दिया था और हमारी परीक्षाएं भी आ रही थीं। 

एक दिन वह हमसे बहुत नाराज़ हो गया और उसने हमसे बात करने के लिए वापस आने से यह कहकर मना कर दिया कि हम उसकी वजह से अपना करियर बर्बाद कर रहे हैं। उसने हमसे वादा भी लिया कि जब तक करियर सेट नही हो जाता तब तक हमलोग ओइजा नहीं खेलेंगे। 

हमने उसके साथ तब से बात नहीं की है। लेकिन समय के साथ चीजें पीछे छूट गईं। और हम दोस्त भी अलग हो गये। मेरे अन्य सभी दोस्त आज दुनिया के अलग-अलग कोनों में हैं।

मैं पिछले कुछ समय से बेचैन हूं और मैं अपने करीब चिराग की उपस्थिति महसूस कर रहा हूं जो, ऐसा मुझे तब फील होता था जब हम ओइजा खेलते थे। मैं किसी भी चीज पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पा रहा हूं।


पिछले कुछ वर्षों में मुझे आत्माओं से जुड़े बहुत सारे अनुभव हुए हैं। लेकिन पिछले 4 दिनों से विशेष रूप से मेरे विचार और सपने चिराग के पास बहुत जोर से जा रहे हैं जैसे कि वह मुझसे कुछ बात करना चाहता हों। मैं महसूस कर सकता हूँ की वह मुझे कुछ बताना चाह रहा है, लेकिन मैं अपने दोस्तों के बिना Ouija नहीं कर सकता। 


क्या कोई मेरी मदद कर सकता है और बता सकता है कि ओइजा के अलावा उससे संपर्क करने का कोई और तरीका है या नहीं...?


🕀🕀🕀🕀🕀

👻💀🕱💀☠

.....

..... Sacchi Ouija Board Bhoot Story Hindi .....

Team Hindi Horror Stories

No comments:

Powered by Blogger.