-->
हत्यारे की तलाश में भटकता भूत: Hatyare Ki Talaash Mein Bhatakta Bhoot

हत्यारे की तलाश में भटकता भूत: Hatyare Ki Talaash Mein Bhatakta Bhoot

Hatyare Ki Talaash Mein Bhatakta Bhoot
 हत्यारे की तलाश में भटकता भूत

Hatyare Ki Talaash Mein Bhatakta Bhoot, bhoot, bhoot pret,bhoot ka story,bhoot kahani,bhoot ki kahani,bhoot ki sachi ghatna,bhoot ki sachi kahani in hindi,bhoot pret ki kahani,
Hatyare Ki Talaash Mein Bhatakta Bhoot

विश्व के सबसे पुराने भूत 19 शताब्दियों से भटक रहे हैं । यार्कमिंस्टर (इंग्लैंड) स्थित 'ट्रयर्स हाउस' में अब तक तीन बार रोम की फौज के भूत दौड़ते नजर आ चुके हैं। ध्यान दें कि लगभग 19 सदी पूर्व इसी जगह पर रोम की सेना युद्ध के दौरान मारी गई थी।



इतिहासकारों के अनुसार स्काटलैंड के टाएसाइड स्थित 'ग्लामिस कैसल' में ब्रिटेन के तत्कालीन महाराजा डुनकान के सेनापति बैकबैथ का भूत भटक रहा है। इस बंगले में एक नहीं बल्कि नौ भूत एक साथ भटकते हैं। दुर्भाग्यवश महाराजा का कत्ल कर दिया गया और मैकबैथ अपने सम्राट के हत्यारे की तलाश में नाकाम रहा, अतः मैकबैथ का भूत हत्यारे की खोज में ‘ग्लामिस कैसल' में भटकता है।


इतना ही नहीं, यहीं कई बार रविवार के दिन अर्ल बीयरडी का भूत जुआ खेलते दिखाई देता है। दूसरी ओर एक बूढ़ी स्त्री का प्रेत गिरिजाघर के इर्द-गिर्द घूमता है। 'ग्लामिस कैसल' के बगीचे में एक बेजुबान महिला की छाया अजीबोगरीब आवाजें निकालती नजर आती है और हां, सर्दी की अंधेरी रातों में, किसी पागल आदमी का छत पर टहलना भूत होने का संकेत देता है। 

विशेषज्ञों ने इस मामले की गहराई से जांच की। वे इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि 'ग्लामिस कैसल' के ऐतिहासिक घटनाचक्र से भूतों का भटकना जुड़ा हो सकता है। दरअसल, भवन की 15 फुट चौड़ी दीवारों में एक डरावना जीव कैद रह चुका है। लगभग 200 वर्ष पहले राजकुमारी मारग्रेट के इस जन्मस्थल पर एक राक्षसी शिशु पैदा हुआ था। उसे गुप्त रूप से भवन की दीवारों में कैद कर दिया गया। 


जब राजपरिवार का राजकुमार सरदारों की पदवी लायक होता तो उसे इस भयानक रहस्य की जानकारी दी जाती और भावी सरदारों की जानवर-रूपी राक्षस जैसे उत्तराधिकारी से भेंट करवाई जाती है। अपुष्ट सूत्रों के अनुसार राक्षसी जीव की गर्दन नहीं थी, छोटे-छोटे पांव थे और अत्यधिक बालों से भरा घोड़े जैसा विशाल पेट था। यह अद्भुत राक्षस सन् 1920 तक जिंदा रहा।


बहरहाल भूत-प्रेतों के भटकने से इस राक्षस का वास्तव में कोई सम्बंध हो सकता है ऐसा नहीं लगता। तो फिर ग्लामिस कैसल में एक साथ नौ भूत क्यों भटकते हैं, कोई पक्के तौर से नहीं जानता। उधर इंग्लैंड के नारफोक जिले के 'बिलकलिंग महल' में सिर-कटे भूत आते हैं। 

इतिहास बताता है कि नारफोक के तत्कालीन सम्राट हेनरी आठ ने एना बालइन नामक महारानी की 19 मई, 1536 को सिर कटवाकर हत्या कर दी थी। हेनरी आठ के आदेशानुसार फ्रांस से सिर काटने में निपुण तलवारबाज लाया गया था। उस दिन से आज तक प्रतिवर्ष 19 मई की रात चार सिरकटे घोड़ों की बग्घी दौड़ाता हुआ सिर कटा चालक सिरकटी महिला एना को पीछे बैठाए, महल के मुख्य द्वार तक जाता है। 

सिरकटी महारानी एना के हाथों में खून से सना उसी का सिर होता है, और तो और अपनी पुत्री एना की मौत का दर्द जाहिर करने के लिए उसके पिता सर थामस बालइन का भूत भी हर 19 मई को हेनरी आठ के तत्कालीन राज्य में भटकता नजर आता है।


💀🕱🕱🕱🕱🕱💀

✒️✒️✒️✒️✒️

.....

..... Hatyare Ki Talaash Mein Bhatakta Bhoot [ Ends Here ] .....

0 Response to "हत्यारे की तलाश में भटकता भूत: Hatyare Ki Talaash Mein Bhatakta Bhoot"

Post a comment