Bhooton Ki Darawni Kahaniya: Were they freedom fighters

Bhooton Ki Darawni Kahaniya: Were they freedom fighters

Bhooton Ki Darawni Kahaniya का अंश: मुझे अच्छे से आज भी याद है कि यह जुलाई का महिना का 10वाँ तारीख था और बाहर भारी बारिश हो रही थी और उस समय घर में मेरे और दादी के अलावा कोई नही था।...

सच्ची डरावनी भूत की कहानी हिंदी : Red House को पढ़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

....दोस्तों इस डरावनी कहानी | Bhooton Ki Darawni Kahaniya को लास्ट तक जरुर पढ़ें क्यूंकि यह एक बहुत इंट्रेस्टिंग और सच्ची डरावनी भूत की स्टोरी है | अइ होप की आपको यह True Bhoot ka Story 2019 जुरूर पसंद आएगा |

Bhooton Ki Darawni Kahaniya, bhoot ka story, bhoot ki kahani, bhoot ki kahaniya hindi, bhoot pret ki kahani, Bhoot Story In Hindi, darawani bhutiya kahani, Real Bhoot Ki Kahani,
Bhooton Ki Darawni Kahaniya 2019

Bhooton Ki Darawni Kahaniya: Were they freedom fighters


मेरा माता-पिता का घर मुंबई के एक बहुत ही परिष्कृत इलाके में स्थित है। इसका निर्माण मेरे परदादा द्वारा 1936 में किया गया था, अर्थात भारतीय स्वतंत्रता से पहले।

मेरे परदादा एक वकील थे और ब्रिटिश शासनकाल में कार्यरत थे, लेकिन स्वतंत्रता आंदोलन में गुप्त रूप से शामिल थे।

स्वतंत्रता सेनानियों की कई महत्वपूर्ण बैठकें हमारे घर पर गुप्त रूप से होती थीं।

असली कहानी अब शुरू होती है... 

यह 1998 का समय था, तब मैं 12 साल का था, मेरे छोटे भाई को टाइफाइड ( एक प्रकार का घातक वायरल बुखार ) हो रखा था और उसे इसके इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया था और मेरे माता-पिता दोनों उसके साथ हॉस्पिटल में थे।

भूतिया डरावनी कहानी हिंदी में: The Sin को पढ़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें


मुझे अच्छे से आज भी याद है कि यह जुलाई का महिना का 10वाँ तारीख था और बाहर भारी बारिश हो रही थी और उस समय घर में मेरे और दादी के अलावा कोई नही था। और हम दोनों ही सो रहे थे।

उस समय मुझे कुछ आवाज़ों ने परेशान किया, मैं अपने घर में किसी और को बात करते हुए सुन सकता था और कुछ देर के बाद मैं एक से अधिक लोगों को सुन सकता था।

मैं आधी रात में इतने सारे लोगों की आवाज सुन कर अंदर से हिल गया और यह सोच कर की कुछ डकैत घर में घुस आये है, इस आशंका से अपने बिस्तर से बाहर निकल गया।

अभी आप पढ़ रहे हैं  रियल भूतों की डरावनी कहानी 

मेरी दादी भी जाग गई। हम दोनों डर गए लेकिन हिम्मत जुटाकर दूसरे कमरे में चले गए जहाँ से शोर आ रहा था और दरवाजे से झांक से के देखा।

हमने फिर जो देखा वो और भी डरवाना था, हम उस रूम में 4 लोगों को देख सकते थे जो की लगभग 20 साल के होंगे, वे 1930/1940 में इस्तेमाल में आने वाले भारतीय पोशाक (कपड़े) पहन रखे थे, और जैसे ही उन्होंने हमें देखा वे गायब हो गए।

यह देख कर मेरी दादी लकवाग्रस्त हो गयी और मैं बेहोश हो गया।

भूत प्रेत की डरावनी कहानी हिंदी Good Spirit को पढ़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

जब मुझे होश आया, मैं हॉस्पिटल में था, और मेरी दादी माँ ICU में थीं।

वह कुछ साल पहले चल बसी, लेकिन हमने कुछ ऐसी चीजें देखीं जिसे समझाना बहुत ही कठिन था।

आज भी जब में यह कहानी आप से शेयर कर रहा बस उस घटना को सोच कर मुझमे एक डर की लहर दौड़ उठी।

उस घटना के बाद हमने फिर उस घर में ऐसा कभी कुछ नहीं देखा।

..... Bhooton Ki Darawni Kahaniya Ends Here .....


Team Hindi Horror Stories:

दोस्तों आपको ये Bhoot Story | Bhooton Ki Darawni Kahaniya 2019: Were they freedom fighters कैसा लगा ये कमेंट में बताये | यदि आप इस तरह के Famous Bhutiya Darawni Kahani in Hindi  | Indian Horror Tales | Hindi Horror Kahaniya या Bhoot story in Hindi का animated विडियो देखना चाहते हैं, तो निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें | यदि आप ऐसे ही और इंडियन घोस्ट स्टोरीज या Story in Hindi Horror देखना चाहते है तो -  Dating Ghosts (click here) youtube channel को subscribe कर लें ताकि मैं आपके लिए और भी ऐसे ही Scary Stories in Hindi लेकर आ सकूँ|

Dating Ghosts | Hindi Horror Stories | Horror Stories In Hindi | real horror incidents in hindi, Bhoot Story In Hindi, horror short story in hindi, real bhoot story hindi, bhoot pret ki kahani, bhoot story, sacchi bhutiya kahani, daravni kahani, pret katha, bhut katha,



दोस्तों आपके पास भी कोई  True Darawni Kahaniya, Horror Story Real In Hindi, Ghost Stories in Hindi, रियल घोस्ट स्टोरीज इन इंडिया इन हिंदी | रीडिंग हॉरर स्टोरी | रियल हॉरर स्टोरी हिंदी है तो हमारे साथ शेयर करें और ऐसे  ही रोचक,  Hindi Horror Stories पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें  हमारे  Newsletter section को, धन्यवाद् |

1 Response to "Bhooton Ki Darawni Kahaniya: Were they freedom fighters"

  1. i Am Jayesh Dabhi. I have a lot of website and My Blog Name is Tenali raman stories in hindi. if you went to see My website then Click on the Link

    ReplyDelete