True Ghost Stories In Hindi Language: Baby - Hindi Horror Stories - सच्ची घटना पर आधारित सबसे डरावनी कहानियाँ

Recent Posts

Saturday, 9 November 2019

True Ghost Stories In Hindi Language: Baby

अंश: मैं देर रात अपने घर का दरवाजा नॉक कर रही थी, तभी मुझे लगा कि कोई मेरे पीछे खड़ा है और जब मैं पलटी, तो रेड फ्रॉक में एक बच्ची को देखकर चौंक गयी, वह बच्ची मुझे देख कर मुस्कुराई और वह बंद दरवाजे को क्रॉस कर कृति के घर में चली गयी।

....दोस्तों इस True Ghost Stories In Hindi Language को लास्ट तक जरुर पढ़ें क्यूंकि यह एक बहुत इंट्रेस्टिंग और सच्ची डरावनी कहानी है | अइ होप की आपको यह Real True Ghost Stories In Hindi Language जुरूर पसंद आएगा |

True Ghost Stories In Hindi Language: Baby

ghost stories in hindi, Ghost Stories In Hindi 2019, haunted stories in hindi, hindi horror stories, horror stories in hindi, true ghost stories in hindi language, true horror stories in hindi,
Hindi Horror Stories


यह मेरे पड़ोसी के बच्चे की कहानी है। उसका नाम कृति था, वह 3 साल की प्यारी सी बच्ची थी और उस समय, मैं 17 साल की टीनऐजर थी और छोटे बच्चों की बहुत लाड़ली थी।

मैं अपने खाली समय के दौरान उसके साथ खेलती थी और साथ ही उसे नए शब्द भी सिखाया करती थी, क्योंकि उसने अभी बोलना शुरू ही किया था, इसलिए उसके साथ रहना बहुत मजेदार था।

यह ऐसा था जैसे हम दोनों ने एक बंधन विकसित कर लिया हो, और जब भी मैं उसे देखती थी उसका नाम पुकारती थी और वह मुस्कुराते हुए मेरे पास आ जाती थी।

कृति हमारे घर अक्सर आती थी। लेकिन किसी बीमारी के कारण कृति  बीमार पड़ने लगी और एक दिन वह यह दुनिया छोर के चली गई।

यह घटना सबका दिल तोड़ने वाला था। कृति के कारण जहाँ हमारे पड़ोस में हंसमुख माहौल होता था, अब वहां  सिर्फ उदासी पसरा रहता था।

Horror Story In Hindi For Reading: Night At The Library को पढ़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें


कृति की मृत्यु के एक सप्ताह के बाद की बात है, मैं देर रात, अपने दोस्त के पास से लौट कर घर आ रही थी। मैं अपने घर का दरवाजा नॉक कर रही थी, मुझे अंदर से बहुत डर लग रहा था।

मुझे लगा कि कोई मेरे पीछे खड़ा है और जब मैं पलटी, तो रेड फ्रॉक में एक बच्ची को देखकर चौंक गयी, वह बच्ची मुझे देख कर मुस्कुराई और वह बंद दरवाजे को क्रॉस कर कृति के घर में चली गयी।

मैं चौंक गयी और डर से पसीना आने लगा।

अगली रात जब मैं सोने जा रही थी, मैंने अपने रूम की खिड़की खोली और अपने पड़ोसी के बगीचे के तरफ देखने लगी, मैं बगीचे में घूम रहे बच्ची को देखकर चौंक गयी और इसने भी रेड कलर का फ्रॉक पहन रखा था।

उस रात मैं बिलकुल नहीं सो पायी। मैं ही क्यों बच्चे और उसकी परछाई को देख पा रही थी यह विचार मुझे अंदर ही अंदर खाए जा रही थी।

Real Horror Story In Hindi: A Burnt Child को पढ़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें


शाम को मैं अपने पड़ोसी के घर गयी और वहां सारी बातें बताई।

कृति की माँ की आँखें आँसू से भर गयी और उसके पिताजी बहुत उदास हो गये।

कृति के पापा ने भी उस बच्ची को देखा था, लेकिन उन्होंने सोचा कि यह सिर्फ उनका भ्रम है। बच्चे के पिता नहीं चाहते थे कि उनकी बेटी की आत्मा जीवन और मृत्यु के बीच में फसी रहे।

बाद में इस तरह की घटनाएं कई लोगों के साथ रात में हुईं।

कुछ दिनों बाद घर में एक पुजारी को बुलाया गया और पुजारी द्वारा कुछ अनुष्ठान किए गए और पूरे घर को पवित्र किया गया।

Real Horror Stories India in Hindi 2019 - The Old Man को पढ़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें


उस अनुष्ठान वाली रात, पुरे एरिया मैं एक गजब सा शांति और मौन था।

उस घटना के बाद उस बच्ची को फिर कभी किसी ने नहीं देखा।

उसकी आत्मा को शांति मिले।

..... New True Ghost Stories In Hindi Language 2019 Ends Here .....


Team Hindi Horror Stories:

दोस्तों आपको ये New True Ghost Stories In Hindi Language 2019 India: Baby कैसा लगा ये कमेंट में बताये | यदि आप इस तरह के Hindi Horror Kahaniya या Horror story in Hindi का animated विडियो देखना चाहते हैं, तो निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें | यदि आप ऐसे ही और इंडियन घोस्ट स्टोरीज या story in Hindi horror देखना चाहते है तो -  Dating Ghosts (click here) youtube channel को subscribe कर लें ताकि मैं आपके लिए और भी ऐसे ही Scary Stories in Hindi लेकर आ सकूँ|

Dating Ghosts | Hindi Horror Stories | Horror Stories In Hindi



दोस्तों आपके पास भी कोई  True Horror Stories In Hindi, True Ghost Stories In Hindi Language, Horror Story Real In Hindi, Ghost Stories in Hindi, रियल घोस्ट स्टोरीज इन इंडिया इन हिंदी है तो हमारे साथ शेयर करें और ऐसे  ही रोचक,  Hindi Horror Stories पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें  हमारे  Newsletter section को , धन्यवाद् |

No comments:

Post a Comment