Horror Story In Hindi - The Warning - Hindi Horror Stories - सच्ची घटना पर आधारित सबसे डरावनी कहानियाँ

Recent Posts

Tuesday, 31 July 2018

Horror Story In Hindi - The Warning

Horror Story In Hindi - The Warning

दोस्तों आज आपके लिए true incident से प्रेरित एक horror story ले के आया हूँ | मुझे आशा है की आपको यह horror story जरुर पसंद आएगा |

यह horror story सुनने में तो उतना डरावना नहीं है , लेकिन यह true incident पर बेस्ड हैं | लेकिन इसमें हुए कुछ incidents बहुत ही डरावने है | लेकिन यह incident मेरे लिए बहुत डरावना है | Starting में मेरे लिए सब कुछ ठीक था लेकिन फिर धीरे धीरे मुझे वहां बहुत कुछ अनुभव होने लगा |

31-0ct-2016,Maxvorstadt, Munich, Germany.

शाम के 7:00 बजे

मैं bus से बार्सिलोना की अपनी यात्रा से वापस आया था और मैं थक गया था। मैं म्यूनिख में intern कर रहा था और weekend पर ट्रेवल करता था। उस टाइम मैं अपनी lover के फोटो को देख रहा था, जिसे मैंने एक हिस्टोरिकल स्पेनिश सिटी में अपने मोबाइल से click किया था और उससे फ़ोन पर झूठ बोल रहा था कि travel boring थी क्योंकि उस टाइम वह मेरे साथ नहीं थी।

शाम के 8:00 बजे

मैं अपने apartment पहुंचा | अपने flat का गेट खोला तो मुझे अपने flat में एक गड़बड़ी दिखा |  मेरा flat बहुत गन्दा था चुकी यह बहुत दिनों से शाफ नहीं हुआ था| मुझे नेक्स्ट वीकेंड भी बाहर जाना था और इधर work डेज में मेरे पास टाइम नहीं था इसलिए मैंने रूम साफ़ करने का डिसिशन लिया | मैंने अपने flat को पूरी तरह से क्लीन कर दिया था| मेरा दूसरा फ्लैटमेट अभी flat में नहीं था क्योंकि वह अपनी जीएफ से मिलने गया हुआ था |

मैं आम तौर पर रात में सोने से पहले डोर्स लॉक कर देता हूं और सभी लाइट्स ऑफ कर देता हूं, क्योंकि जर्मनी में एनर्जी waste करने के लिए कठोर है |  मैं bed पे लेटे हुए text कर रहा था और slowly-slowly मुझे नींद आ गयी और मैं सो गया |

रात के 2:30 बजे

मैं नींद में एक सपना देख रहा था तभी मेरे कान में  किसी के फुसफुसाने की आवाज आई | पहले मैं समझ नहीं पाया कि रियलिटी में वो वर्ड्स क्या थे। लेकिन जल्द ही वो बात करने की आवाज तेज हो गयी | लेकिन उस टाइम मैं ना ही जगा हुआ था नहीं पुरे नींद में था, यानि की मैं आधे नींद में था | लेकिन वह आवाज बढ़ने लगी और फिर मुझे यह फील हुआ की कोई मेरे बगल में बैठ कर बात कर रहा है |


Horror Story In Hindi - The Warning
Horror Story In Hindi - The Warning


फिर मुझे यह feel हुआ की कोई just मेरे कान के पास बोल रहा है मैं अपने कान के चारों ओर नमी feel कर सकता था। यह 1 से 2 min. तक रहा, जब तक कि मैं अपने नींद से बाहर नहीं निकल गया, उसी time मैं एक  जोर से गुस्से से भरी,deep voice सुनी !!

मैं उस समय उठ गया, और बिस्तर पर चौंक कर बैठ गया | मैं थोडा डर गया था लेकिन रूम में कुछ भी अजीब नहीं था। मैंने देखा की रूम की एक लाइट अभी भी ऑन थी |  मैंने सोचा, शायद मेरा mind मुझे जागने की कोशिश कर रहा था ताकि मैं उस लाइट को ऑफ कर दूँ  "Energy conservation" |

तो, फिर क्या था, मैं उठ गया और लाइट को ऑफ कर दिया और बेड फिर से मेरा। लेकिन मेरा mind अभी भी वहीँ था। मैं सोते हुए बार बार अपने आँखों को खोल कर इधर-उधर देखने लगता था | तभी मेरी नज़र अपने रूम के डोर के निचले हिस्से में गयी | वहां से एक लाइट का shadow क्रॉस किया | उस लाइट के fast shadow ने मेरा ध्यान खींच लिया था।

मैंने यह देखने के लिए flat के चारों ओर एक नज़र डालने का फैसला किया कि कहीं मेरा फ्लैटमेट तो वापस नहीं आ गया है और उसने ही लाइट्स ऑन कर दी है | मैंने यह पता लगाने के लिए गेट खोला, तो मैं देखता हूँ कि सभी लाइट्स की स्विच ऑन है | सभी रूम्स की लाइट ऑन थी यहां तक ​​कि bathroom और balcony की भी |

"हंस? क्या तुम यहाँ हो?", मैंने जोर से stable आवाज़ में पूछा। मैं hope कर रहा था कि वह वापस आ गया है  और यह देखने के लिए मैं उसके room में गया लेकिन वह नहीं आया था | फिर मैं तुरंत ही main गेट के लॉक को चेक करने चला गया और देखा की लॉक भी बंद है | मुझे अभी भी पता नहीं है कि मैंने उस रात flat में अकेले सोने का साहस कैसे एकत्र किया।

प्रेयर करते हुए  मैंने सभी लाइट्स को बंद करना शुरू कर दिया। उस night को मैं लाइट से भी तेज काम कर रहा था। कुछ ही सेकंडों में मैंने अपार्टमेंट की सभी लाइट्स ऑफ कर दी और atlast मेरे रूम का टाइम आ गया और एक बार फिर से अपने रूम के लाइट्स को मैंने ऑफ कर दिया और अपने बेड पे सोने को चला गया | मेरा पूरा रूम डार्क था और मैं उस बात से डर गया था |

पर खुद को यह विश्वास दिला कर फिर से सोना पड़ा कि मैं हिं वह हूँ जिसने भूल से lights ऑन छोड़ी थी और इससे अत्यधिक और कोई chance नहीं थी। मेरे तर्कसंगत इंजीनियर mind ने मुझे belive करवाया की मैं किसी भी तरह से lights off करना भूल गया था और थक कर सो गया था |


Next Day

 मैंने नॉर्मली अपना डे स्टार्ट किया | work पे जाते टाइम मैंने जीएफ के लिए कुछ गिफ्ट्स purchase किये और उसे कूरियर करने से पहले कुछ पिक click किया और उसे गिफ्ट्स कूरियर कर दिया |  शाम को work से वापस आया और उसे पिक सेंड करने का सोचा |

शाम के 6 बजे :

 यह मेरे लाइफ का एक सबसे डरावना मोमेंट था, जब मैंने अपने मोबाइल के पिक फोल्डर को open किया । मेरे सामने लास्ट night की फोटो थी | इस फोटो में मैं एक shadow के साथ सोया हुआ था | दुसरे फोटो में वह shadow ठीक मेरे face के सामने थी  और टोटल 2 मेरी पिक थिस और रूम की 3 पिक्स थी और यह सब फोटो कल रात 2: 11 से 2:15 के बिच की थी |

यह देख कर मेरा माइंड स्लो हो गया और में लास्ट night  हुई पूरी लाइट्स "ऑन", "ऑफ" और 'फुसफुसाने' के घटना को याद किया। मैंने फिर इसके बारे में Rationaly सोचा लेकिन फिर इस बार मैंने इस बात पर care करने का भी विचार त्याग दिया।

 अगर मैं सो रहा था, तो मुझे अपने फोन को unlock करने के लिए एक जटिल पैटर्न को स्वाइप करना था, उसके बाद कैमरा ऐप को open करना, फ्रेम में अपना face लाकर और आँखों को बंद कर के फिर कैमरे से अपनी फोटो click करनी थी | यह सवाल मेरे दिमाग के उप्पर से चला गया |

मैं कुछ डेज से ठीक से सो भी नहीं पा रहा था | मुझे ऐसा लग रहा था की कोई मुझे हर time देख रहा है। हो सकता है कि मुझे कोई फोबिया हो गया हो |

हर शाम मैं जब अपने काम से वापस आता था तो मुझे अपनी चीज़े इधर उधर मिलती थी और आज यह कन्फर्म भी होने वाला था | मैंने events को track करने का डिसिशन किया और जानबूझकर furniture और सामान को अपने कमरे में एक फिक्स्ड वे में  व्यवस्थित कर दिया और work पे जाने से पहले उसकी एक पिक ले ली।

कन्फर्म था की उस रूम में कोई न कोई जरुर था क्यूंकि मैं अपने लॉक रूम में आया (इसे मैंने अलग लॉक से लॉक किया था जिसकी key सिर्फ मेरे पास थी |) door को open किया और देखा कि chair, laptop या और गैजेट्स अलग-अलग जगह पर थे | यह उन जगहों में नहीं थे जहाँ मैंने इन्हें work पे जाने से पहले छोड़ा था।

मुझे एक clear warning मिली गयी थी की कोई मेरा वहां रहना पसंद नहीं कर रहा और मैंने आगे की चेक न करने का decide किया और इससे पहले कि मैं पागल हो जाऊं, मैंने अपार्टमेंट छोड़ने और कहीं और रहने का plan किया। यह आश्चर्य की बात नहीं है कि एक week के अन्दर में उस apartment को vacant कर दिया |

 हंस ने भी मुझसे कहा कि उसे भी उस अपार्टमेंट से कभी भी अच्छी वाइब्स नहीं मिली और वह भी मेरे साथ उस flat को छोड़ने का फैसला किया |  1 week में हम दोनों उस जगह से safely बाहर थे |



दोस्तों आपको ये Hindi Ghost Story कैसा लगा ये कमेंट में बताये | यदि आप इस तरह के Horror story का animated विडियो देखना चाहते हैं, तो निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें | यदि आप ऐसे ही और स्टोरीज देखना चाहते है तो -  Dating Ghosts (click here) youtube channel को subscribe कर लें ताकि मैं आपके लिए और भी ऐसे ही Scary Stories लेकर आ सकूँ|


Dating%2BGhosts



दोस्तों आपके पास भी कोई Scary Story, Horror Story, Ghost Story है तो हमारे साथ शेयर करें और ऐसे  ही रोचक,  Hindi Horror Stories पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें  हमारे  Newsletter section को , धन्यवाद् |

No comments:

Post a Comment