Horror Stories in Hindi - Facebook Love - Hindi Horror Stories - सच्ची घटना पर आधारित सबसे डरावनी कहानियाँ

Recent Posts

Wednesday, 11 July 2018

Horror Stories in Hindi - Facebook Love

Horror Stories in Hindi - Facebook Love

दोस्तों यह Horror Story  एक facebook से जन्मे प्यार की है, जो बाद में जा के नफरत में बदल जाती है और उसके बाद कुछ ऐसा होता है, जो कभी भी किसी ने नहीं सोचा होगा| इस Horror Story को पूरा पढ़ें | अइ होप की आपको यह Horror Story जरुर पसंद आएगी |

Horror Stories in Hindi - Facebook Love
Horror Stories in Hindi - Facebook Love

बद्री आया और अपने सोफे पर बैठ गया। वह बुरी तरह से  पसीने में भीगा हुआ था। atlast वह अपने लाइफ की सबसे बड़ी प्रॉब्लम को समाप्त कर दिया था |  वह reality में अपनी प्रॉब्लम को पूरी तरह से जड़ से काट दिया था |  उसने अपनी गर्लफ्रेंड  इशिका को अपने रास्ते से हटा दिया था | उसने इशिका का गला काट कर उसकी निर्मम हत्या कर दी थी |

बद्री और इशिका एक साल पहले facebook पे मिले थे |

शुरू में उनके बिच सब कुछ अच्छा चल रहा था | लेकिन समय बीतते गए और उनके बिच का प्यार कम होता गया | लेकिन अंत में, बद्री के लिए यह सब बहुत अधिक हो गया था | इशिका को बद्री से बहुत expectations था, जिसे बद्री ने कभी भी पूरा नहीं की | धीरे-धीरे उनके बिच का वह प्यारा सुंदर सा रिश्ता दोनों के लिए एक बहुत बड़ी problem बन गई। जो starting में pure लव था, वो अब बद्री के लिए अपनी सेक्सुअल डिजायर को पूरा करने वाला सामान बन गया था |

इशिका पूरी तरह से असहाय हो चुकी थी । day by day उनके रिश्ते बद से बदतर होते जा रहे थे। एक ऐसा भी दिन था जब वे एक दुसरे से extreme love करते थे |

उन सिली बातों पे पहले जो प्यारी नोक-झोंक हुआ करती थी, वो अब तीखी लड़ाई में बदल चुकी थी | प्यार से चिढ़ाना अब एक दुसरे को निचे दिखने में change हो चूका था| उनका प्यार जल्द ही नफरत में बदल गया था और बद्री यह सब सहन नहीं कर पा रहा था| जिस face को वह daily प्यार से देखा करता था, वह इसे अब कभी नहीं देखना चाहता था। वह इशिका से दूर जाना चाहता था, इतना दूर की वे वापस फिर कभी एक दुसरे को न देख सके|

लेकिन इशिका को छोड़ना इतना आसान नहीं था। इशिका उसे शादी करने के लिए force कर रही थी और बद्री को यकीन नहीं था कि उनकी शादी चलेगी भी या नहीं। वह बहुत अच्छी तरह से जानता था की जिस side  यह relation जा रहा था, वह अब marriage में कभी नहीं बदल सकता था और वह इशिका से breakup चाहता था |

लेकिन इशिका उसे किसी भी स्तिथि में उसे छोड़ने के लिए तैयार नहीं थी |  वह अपने तरफ से पूरी कोशिश कर रही थी की उनका रिलेशन ठीक हो जाये| वह बद्री से दूर जाने के नाम से डर जाती थी|  इसलिए उसने शादी के लिए बद्री को force करना शुरू कर दिया और यहाँ तक धमकी दे डाली की यदि उसने माना किया तो वह पुलिस में जाके complain कर देगी और उसके ऊपर rape का चार्ज लगवायेगी |

बद्री जानता था कि अब वह बुरी तरह से इशिका के Trap में फस गया था। first time जब वह इशिका से मिला था तो वह facebook का बहुत बड़ा फैन हो गया था लेकिन अब वहि facebook अब उसे श्राप से कम नहीं लग रही थी| वह बस इशिका से छुटकारा पाना चाहता था।और इसलिए, उसने एक दिन night में उसे मिलने बुलाया और फिर time मिलते ही उसे अपने हाथों से मार दिया| उसने knife की मदद से उसका गला काट कर उसके सिर और चाकू को एक drainage में डाल दिया और उसके body को एक jungle में फेक दिया |

सोफे पर बैठकर, अब वह आराम की सासें ले रहा था । उसने जो गलत किया था उसे फील हो रहा था लेकिन वह अब संतुष्ट था की उसके लाइफ की सबसे बड़ी परेशानी अब दूर हो गयी। वह गिल्ट फील करने से ज्यादा इस बात पर खुस था | वह पुलिस के बारे में ज्यादा परेशान नहीं था क्यूंकि वह जानता था कि वह कभी पकड़ा नहीं जाएगा और पुलिस इशिका की बॉडी को कभी identify नहीं कर पायेगी |

यह सब सोचते हुए उसकी नज़र सामने वाल पर लगी फोटो फ्रेम पर गयी, उस picture को देख वह सोच रहा था की शुरू में वे एक दुसरे को कितने प्यार करते थे |तभी उसने कुछ अजीब देखा। इशिका का  फोटो कुछ अजीब ही लग रहा था, वह जिस तरह से उस फोटो को click करते टाइम स्माइल कर रही थी वैसा स्माइल नहीं था | वह फोटो अजीब लग रहा था, इशिका बहुत गुस्से में बद्री के तरफ देख रही थी और बद्री स्माइल कर रहा था |


बद्री तुरंत अपना मोबाइल उठाया और पुराने फोटो को डिलीट करना शुरू कर दिया, लेकिन उसके मोबाइल में जितने भी इशिका के फोटो थे उन सब फोटो में वह गुस्से से देख रही थी| बद्री के लिए यह astonished करने वाली बात थी |

उसने उन दोनों की सबसे यादगार फोटो को open किया | उसने देखा की इशिका इस picture में भी गुस्से में उसके तरफ देख रही है | वह जानता था कि वह उस picture में smile कर रही थी, लेकिन अब वह sad और गुस्से में लग रही थी। यह देख कर बद्री उस फोटो को close कर दिया |

उसने सारे फोटोज को एक साथ सेलेक्ट किया और डिलीट बटन पे click किया, लेकिन तुरंत मोबाइल स्क्रीन पे एक नोतिफ़िकतिओन आता है की आप इन फोटोज को डिलीट नहीं कर सकते|

बद्री dangerously डर गया। उसके साथ यह सब क्या हो रहा था? उसने फिर से इसे delete करने की try की, लेकिन result same निकला। वह डर से heavily sweat कर रहा था| वह अब अपने suroundings में  कुछ नेगेटिव एनर्जी फील कर सकता था  |

अचानक, वाल पे लगी फोटो फ्रेम गिर गई | बद्री फोटो फ्रेम के तरफ भागा, जब नजदीक पहुंचा तो उसने देखा की उसकी फोटो के ऊपर गा ग्लास पुरे तरह से फुट गया था जबकि इशिका के फोटो के ऊपर के ग्लास को एक स्क्रैच तक नहीं लगी थी | उसने सोचा की यह कैसे पॉसिबल है |

जैसे ही वह टूटे हुए  गिलास के टुकड़े इकट्ठा करने में busy था, उसके फ़ोन रिंग हुई | वह यह देखने के लिए फ़ोन के तरफ गया की किसका कॉल है |

वह देख कर हैरान रह गया - यह तो इशिका का कॉल है | उसने डरते हुए कॉल रिसिव की उधर से इशिका के आवाज में एक लड़की बोली तुमने जो मेरे साथ किया है वह ठीक नहीं किया | तुम्हे इसका रिजल्ट जरुर मिलेगा और इतने में ही फ़ोन कट गया|

वह अब बहुत ही ज्यादा डर गया था| वह तुरंत पास के पुलिस स्टेशन में अपने आप को surrender कर दिया और सारी बातें बता दी|

उसे हर रात जेल में इशिका दिखती थी लेकिन एक रात उसने देखा की इशिका चाकू लेकर उसके तरफ बढ़ रही थी, वह जेल में ही चिलाने लगा plz कोई मुझे बचाओ वह मुझे मार देगी| यह आवाज सुनते ही जेल के gards  उसके cell के side भागे और देखते ही देखते उनके आँखों के सामने एक white bright light ने बद्री का गला cut कर उसे मौत के घाट उतार दिया|

दोस्तों आपको ये Hindi Ghost Story कैसा लगा ये कमेंट में बताये | यदि आप इस तरह के Horror story का animated विडियो देखना चाहते हैं, तो निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें | यदि आप ऐसे ही और स्टोरीज देखना चाहते है तो -  Dating Ghosts (click here) youtube channel को subscribe कर लें ताकि मैं आपके लिए और भी ऐसे ही Scary Stories लेकर आ सकूँ|

Dating%2BGhosts



दोस्तों आपके पास भी कोई Scary Story, Horror Story, Ghost Story है तो हमारे साथ शेयर करें और ऐसे  ही रोचक,  Hindi Horror Stories पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें  हमारे  Newsletter section को , धन्यवाद् |


1 comment: